महानायक की खंडित मूर्ति पर नहीं है ध्यान, विजयोत्सव पर हुआ करोड़ो खर्च

बक्सर अप टू डेट न्यूज :- पिछले दिनों भोजपुर के जगदीशपुर में महानायक बाबू वीर कुंवर सिंह विजयोत्सव मनाया गया। इस दौरान 78 हज़ार 700 भारतीय ध्वज फहरा कर विश्व रिकॉर्ड भी बनाया गया। विजयोत्सव में स्थानीय सांसद अश्विनी कुमार चौबे समेत तमाम छोटे-बड़े भाजपा नेताओं ने लोगों को इस महोत्सव में जुटे थे।ads buxar

लेकिन दुर्भाग्य की बात यह है कि इटाढ़ी प्रखंड के निहालपुर मध्य विद्यालय में स्थापित वीर कुंवर सिंह की प्रतिमा एक वर्ष से टूटी अवस्था में बिखरी पड़ी है। प्रतिमा का अनावरण 2014 में पूर्व उपमुख्यमंत्री सुशील कुमार मोदी ने किया था। लेकिन कुछ सालों बाद उस मूर्ति को तोड़ दिया गया। जो आज भी उसी अवस्था में आज भी पड़ी हुई है। हालांकि अधिकारियों ने आश्वासन दिया गया है कि जल्द ही इस दुर्दशा के कारणों का पता लगाकर उचित कार्रवाई की जाएगी।

पूर्व उपमुख्यमंत्री सुशील मोदी ने किया था मूर्ति अनावरण

वर्ष 2014 में पूर्व उपमुख्यमंत्री सुशील मोदी ने बीर बांकुड़ा बाबू कुँअर सिंह की मूर्ति अनावरण किया था। कार्यक्रम में तमाम राजनीतिक दिग्गज मौजूद थे। प्रतिमा स्थापना के कुछ ही वर्ष बाद असामाजिक तत्वों के द्वारा तोड़ दिया गया।

कांग्रेस के वरिष्ठ नेता टीएन चौबे ने स्थानीय सांसद को इस स्थिति के लिए जिम्मेदार बताया है। साथ ही इसे शर्मनाक और डूब मरने जैसी स्थिति करार दिया है। वही, हरिशंकर त्रिवेदी उर्फ़ गोपाल त्रिवेदी ने यह कहा है कि भाजपा महापुरुषों के सम्मान के साथ लगातार खिलवाड़ कर रही है। निश्चित रूप से महापुरुषों की ख्याति को राजनीतिक रूप से भुलाने की कोशिश हो रही है। जिसके लिए विजयोत्सव के दौरान करोड़ों रुपए का खर्च किया गया लेकिन सही मायने में देखा जाए तो जिन महापुरुषों के नाम पर भाजपा के लोग राजनीति कर रहे हैं। उन महापुरुषों में न तो उनकी कोई आस्था है और ना ही वह दूसरों में उनके प्रति आस्था पैदा कर पा रहे हैं।

जानकारी लेकर करेंगे उचित करवाई

अनुमंडल पदाधिकारी धीरेंद्र कुमार मिश्रा ने बताया कि जैसे ही उन्हें प्रतिमा के विखंडित होने की जानकारी पत्रकारों के द्वारा दी गई उन्होंने तुरंत ही मौके पर अंचलाधिकारी तथा थानाध्यक्ष को स्थिति का अवलोकन करने के साथ ही जानकारी लेने के लिए भेजा है। उन्होंने कहा कि वह स्वयं अपने स्तर से ही मामले की जानकारी ले रहे हैं। प्राप्त जानकारी के आलोक में आगे की कार्रवाई की जाएगी.

Advertisement

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button
error: Content is protected !!